Thursday , February 25 2021
Breaking News

गढ़पुरा पशु अस्पताल भवन की स्थिति बदतर, यहां आने से कतराते हैं पशुपालक

बेगूसरायएक दिन पहले

  • कॉपी लिंक

गढ़पुरा स्थित प्रथम श्रेणी पशु अस्पताल भवन की स्थिति काफी बद से बदतर बनी है। जिसके कारण भ्रमणशील चिकित्सा पदाधिकारी व अन्य कर्मियों को काफी परेशानी हो रही है। टीवीओ राजीव रंजन के मुताबिक अस्पताल भवन की स्थिति काफी खराब है। वर्षा होते ही यह दो मंजिला भवन जहां-तहां चुने लगता है। जिसके कारण रहना भी मुश्किल हो जाता है।

दूसरी मंजिल पर तो वर्षा का पानी टपकने से पानी भी जमा हो जाता है। जब से बरसात शुरू हुई है काफी कठिनाई हो रही है। अस्पताल भवन की खिड़की का शीशा कब का ही तोड़ दिया गया। भवन के ऊपर वाला टंकी, नीचे के शौचालय की टंकी डैमेज पड़ा है। अस्पताल का लोहे का गेट भी टूटा है। यहां नाइट गार्ड व प्यून का पद काफी दिनों से खाली पड़ा है।

वैक्सीन रखने के लिए फ्रिज नहीं है जिसके लिए जिला को लिखा गया है। पशु चिकित्सा पदाधिकारी ने बताया कि प्रखंड क्षेत्र में सोनमा व गढ़पुरा में प्रथम श्रेणी का मात्र दो ही पशु अस्पताल है। सोनमा पशु अस्पताल के क्षेत्र में सोनमा, मौजी हरिसिंह,कुम्हारसों व कोरियामा पंचायत आता है। जबकि गढ़पुरा, मालीपुर, कोरैय, रजौड़ व दुनही गढ़पुरा पशु अस्पताल एरिया में आता है।

टीभीओ ने बताया कि विभाग के द्वारा नए टेबल, कुर्सी उपलब्ध करा दिया गया है। फिलहाल अस्पताल में 20 तरह की दवा उपलब्ध है। जिसमें पोबीडोन, स्टोमैचिस, साइपर मैथ्रीन, एविल, सेफटियाजोन, एन्ड्रोफ्लोक्स्सीन जेंटामाइसिन आदि शामिल है। टीवीओ के मुताबिक भवन का पुनः रिपेयरमेंट होना काफी जरूरी है। प्यून नहीं रहने के कारण काफी परेशानी हो रही है। जैसे-तैसे काम निकाला जा रहा है। कर्मी व भवन की स्थिति ठीक नहीं रहने से समस्या बढ़ी रहती है।

जानकारी के अनुसार करीब 2007 में 38 लाख रुपए से पशु अस्पताल का नव निर्माण कराया गया था। किंतु नाइट गार्ड नहीं रहने के कारण पशु अस्पताल में लगाए गए कीमती शीशा सहित कई सामानों को तोड़ कर तहत नहस कर दिया गया। पशु अस्पताल के अगल-बगल गंदगी रहने से भी समस्या बनी रहती है।
कई गांव के पशुपालक आते थे इलाज करवाने

गढपुरा प्रखंड के नौ पंचायत में दो पशु अस्पताल एक सोनमा तथा एक गढ़पुरा में है। गढ़पुरा पशु अस्पताल से गढ़पुरा, मैसना, धर्मपुर, कोरैय, सुजानपुर, रजौड़, सकरा, दुनही, मणिकपुर समेत कई गांव के अलावा सीमांचल जिला समस्तीपुर के पातेपुर, मुर्राहा, शासन, गोहा, खनुआ आदि गांव के लोग लाभान्वित होते हैं।


Source link

About divyanshuaman123

Check Also

कैद: दहेज के लिए पत्नी की हत्या मामले में पति को 7 साल कैद

कैद: दहेज के लिए पत्नी की हत्या मामले में पति को 7 साल कैद

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप हाजीपुर2 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *