Sunday , April 18 2021
Breaking News

जदयू नेता आरसीपी सिंह ने कहा- राज्यसभा में मैं उनकी बगल में बैठता था, भाषण के बाद देते थे शाबाशी

  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar: Memories About Late Ram Vilas Paswan, JDU Leader RCP Singh Said I Used To Sit Next To Him In The Rajya Sabha, He Would Give Praise After The Speech

पटना12 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

रामविलास के अंतिम दर्शन के लिए एसके पुरी स्थित उनके आवास पर जुटे लोग।

  • आरसीपी सिंह ने कहा- राज्यसभा में रामविलास का सीट नंबर 75 और मेरा 76 था
  • वह बहुत ही मृदुभाषी और बड़ा ही श्नेह रखने वाले व्यक्ति थे

स्व. रामविलास पासवान की अंतिम यात्रा अब से थोड़ी देर बाद पटना के एसके पुरी स्थित उनके आवास से निकलने वाली है। रामविलास को श्रद्धांजलि देने के लिए आने वालों का तांता लगा है। लोग रामविलास के साथ बिताए अपने दिनों को याद कर रहे हैं। जदयू नेता और राज्यसभा सांसद आरसीपी सिंह, पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय, रामा देवी समेत कई नेता उन्हें अंतिम विदाई देने पहुंचे हैं।

आरसीपी सिंह ने रामविलास के साथ बिताए अपने दिनों को याद किया। उन्होंने कहा कि राज्यसभा में मैं उनके पास बैठता था। मैं जब भी अच्छा भाषण देता तो वह शाबाशी देते। उनका सीट नंबर 75 और मेरा 76 था। वह बहुत ही मृदुभाषी और बड़ा ही श्नेह रखने वाले व्यक्ति थे। उन्होंने रेलवे मंत्रालय संभाला तो आधारभूत संरचना विकसित करने पर ध्यान दिया। उन्होंने टेलीकम्यूनिकेशन में काफी काम किया था। मैं दोनों मंत्रालय में रहा हूं। इसलिए मुझे इसका अनुभव है। वह जिस विभाग में रहे, काफी काम किया। उनका बहुत लम्बा संसदीय अनुभव था।

रामविलास पासवान को श्रद्धांजलि देने पहुंचे जदयू नेता आरसीपी सिंह।

रामविलास पासवान को श्रद्धांजलि देने पहुंचे जदयू नेता आरसीपी सिंह।

उन्होंने अपनी राजनीति गांव से शुरू की और देश की राजनीति में मुकाम हासिल किया। यह हर एक नेता का सपना होता है। कुछ समय पहले की बात है राज्यसभा में बहस चल रही थी। वह बगल में बैठे थे। मैंने भाषण दिया तो उन्होंने कहा कि रामचंद्र बहुत अच्छा बोले। इसपर पास मौजूद भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि ये तो बोलते ही हैं। रामविलास ने कहा था कि ये सिर्फ बोलते ही नहीं है अपने क्षेत्र में भी रहते हैं। अंतिम सत्र में मैंने देखा था कि उनके पैर में थोड़ा फ्रेक्चर आ गया था, इस कारण वह सदन में नहीं आ पाते थे।


Source link

About divyanshuaman123

Check Also

फेल हो रही सरकार की व्यवस्था: राजधानी में मात्र 543 बेड, इसमें भी 90 % फुल; सरकारी से 2 गुणा अधिक प्राइवेट में बेड लेकिन इलाज का रेट हाई

फेल हो रही सरकार की व्यवस्था: राजधानी में मात्र 543 बेड, इसमें भी 90 % फुल; सरकारी से 2 गुणा अधिक प्राइवेट में बेड लेकिन इलाज का रेट हाई

Hindi News Local Bihar Gouvernement Management For Corona Patient In Hospitals Critical; Bed Not Available …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *