Sunday , April 18 2021
Breaking News

जब तक वैक्सीन न आए तब तक मास्क लगाना जरूरी

खगड़िया21 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • अभाविप के सदस्यों ने खुद मास्क पहनने और दूसरों को प्रेरित करने की ली शपथ

दैनिक भास्कर के मास्क ही वैक्सीन है अभियान का सोमवार को छात्र संगठन ने भी भरपूर स्वागत किया। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद संगठन के सदस्यों का कहना है की यह अभियान जनहित में है। इस कोरोना संक्रमण काल में इसकी बहुत आवश्यकता है। लोग इस महामारी से पूरी तरह से लापरवाह होते जा रहे हैं। इसलिए भास्कर का यह अभियान छात्र संगठन मिलकर चलाएगा। ताकि लोगों में मास्क के प्रति जागरूकता आए। सोमवार को अभाविप के ने सदस्यों ने भास्कर अभियान से जुड़कर कहा कि हमलोग मास्क पुलिस बल जागरुकता फैलाएंगे।

संक्रमण से बचाव को मास्क महत्वपूर : नलीन
कोविड-19 के संक्रमण से बचने के लिए हमें सार्वजनिक स्थानों पर मास्क का इस्तेमाल करना बहुत जरूरी है। एक संक्रमित व्यक्ति द्वारा खांसने या छींकने की स्थिति में यह संक्रमण को फैलने से रोकने में भी महत्वपूर्ण भूमिका प्रदान करती है।वर्तमान परिस्थिति में देखे तो विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन की प्रक्रिया प्रारंभ है।

वैक्सीन आने तक मास्क बेहद जरूरी है: आनंद
अभाविप के नगर सहमंत्री आनंद राही ने बताया कि जब तक कोरोना की वैक्सीन उपलब्ध नही हो जाती, तबतक सिर्फ मास्क ही हमें इस वायरस से बचा सकती है। लॉकडाउन खुल जाने के कारण अब इस मास्क बहुत जरूरी हो गया है, हमारा संपर्क रोज नए लोगों से होता है, जिनकी स्वास्थ्य की जानकारी हमें नही होती।

दूसरों की रक्षा जीवन का मूल मंत्र : अमर कौशिक
अभाविप के पूर्व प्रखंड संयोजक अमर कौशिक ने कहा कि मास्क पहनकर ना हम सिर्फ अपनी सुरक्षा करते हैं, बल्कि अपने परिवार को भी महामारी से सुरक्षित कर पाते हैं। महामारी में हमें मास्क पहन योद्धा के रूप में समाज को इस महामारी के चपेट से बचना है। अपने साथ दूसरे के जीवन का भी भला हो यही जीवन के सुरक्षा चक्र का मूल मंत्र हैं।

नजर अंदाज करना हो सकता है भयावह : रौशन
अभाविप के नगर सहमंत्री रौशन कुमार ने बताया कि कोरोना की विभीषिका समाप्त नहीं हुई है परंतु चुनाव के मद्देनजर इसे प्रशासनिक तौर पर नजर अंदाज किया जा रहा है। इसके परिणाम भयावह भी हो सकते हैं। इसलिए हमें स्वयं ही अपने परिवार की सुरक्षा का संकल्प लेना होगा और मास्क का उपयोग जैसे महत्वपूर्ण बिंदुओं का ख्याल रखना होगा।


Source link

About divyanshuaman123

Check Also

फेल हो रही सरकार की व्यवस्था: राजधानी में मात्र 543 बेड, इसमें भी 90 % फुल; सरकारी से 2 गुणा अधिक प्राइवेट में बेड लेकिन इलाज का रेट हाई

फेल हो रही सरकार की व्यवस्था: राजधानी में मात्र 543 बेड, इसमें भी 90 % फुल; सरकारी से 2 गुणा अधिक प्राइवेट में बेड लेकिन इलाज का रेट हाई

Hindi News Local Bihar Gouvernement Management For Corona Patient In Hospitals Critical; Bed Not Available …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *