Friday , February 26 2021
Breaking News

जातीय हिंसा में बिहार पहले और राजनीतिक हिंसा में 5वें स्थान पर, महिला हिंसा में भी 9.8% का इजाफा

  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Bihar Ranks First In Ethnic Violence And 5th In Political Violence, Female Violence Also Increases By 9.8%

पटना7 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

देश भर में राजनैतिक हिंसा के 1209 मामले हुए वहीं जातीय हिंसा के 492 घटनाएं हुईं। -फाइल फोटो।

(शशि सागर) नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो ने देशभर में जातीय और राजनैतिक हिंसा (संघर्ष) से जुड़े आंकड़े को भी जारी किया है। साल 2019 के आंकड़ों के मुताबिक जातीय हिंसा में बिहार अव्वल है। सालभर में जातीय हिंसा की 131 घटनाएं हुईं जिनमें 269 लोग प्रभावित हुए। वहीं तमिलनाडु में 80 घटनाएं हुईं और 108 लोग प्रभावित हुए।

इस मामले में 71 घटनाओं के साथ महाराष्ट्र तीसरे नंबर पर रहा, जिसमें 94 लोग प्रभावित हुए। वहीं राजनैतिक हिंसा के मामले में बिहार पांचवें पायदान पर है। सालभर में बिहार में राजनैतिक हिंसा की 62 घटनाएं हुईं जिनमें 133 लोग प्रभावित हुए।

पहले नंबर पर केरल है, जहां साल भर में 495 घटनाएं हुईं जिनमें 584 लोग प्रभावित हुए। दूसरे नंबर पर तेलंगाना रहा जहां साल भर में 118 घटनाएं हुईं। देश भर में राजनैतिक हिंसा के 1209 मामले हुए वहीं जातीय हिंसा के 492 घटनाएं हुईं।
जमीन और संपत्ति से जुड़ा विवाद भी बिहार में सबसे अधिक है। साल 2019 में बिहार में जमीन और संपत्ति से जुड़ी 3707 घटनाएं हुईं जिनमें 5227 लोग प्रभावित हुए। दूसरे नंबर पर कर्नाटक में 1105, तीसरे नंबर पर महाराष्ट्र में 938 और चौथे नंबर पर उत्तरप्रदेश में 540 घटनाएं हुईं। पारिवारिक विवाद में बिहार यूपी और हरियाणा से भी आगे है। साल 2019 में बिहार में पारिवारिक विवाद के 839 मामले आए जिनमें 1574 लोग प्रभावित थे। वहीं यूपी में 636 मामले और हरियाणा में 453 मामले आए।
जम्मू में पुलिस पर हमला सबसे ज्यादा, चौथे पर बिहार

पुलिस और सरकारी कर्मियों पर साल 2019 में हुए हमले के मामले में बिहार तीसरे नंबर पर है। जम्मू कश्मीर में सबसे अधिक 559 घटनाएं हुईं जिनमें 682 पुलिस व सरकारी कर्मी प्रभावित हुए। वहीं केरल में 72 और मध्य प्रदेश में 66 घटनाएं हुईं। बिहार में 63 घटनाएं हुईं जिसमें 226 लोग प्रभावित हुए।

बिहार में महिला हिंसा में 9.8% का इजाफा

एनसीआरबी के आंकड़ों की मानें तो बिहार में महिला हिंसा में पिछले कुछ सालों में इजाफा ही हुआ है। साल 2018 की तुलना अगर साल 2019 के आंकड़ों से करें तो महिलाओं के प्रति हिंसा में 9.8 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। साल 2018 में महिला हिंसा की 16920 घटनाएं हुई थीं जो साल 2019 में बढ़कर 18587 हो गईं।

वहीं साल 2017 में बिहार में महिला हिंसा की 14711 घटनाएं हुई थीं। देश भर की बात करें तो साल 2019 में 405861 घटनाएं हुईं वहीं साल 2018 में 378236 घटनाएं दर्ज की गई थीं। राष्ट्रीय स्तर पर महिलाओं के प्रति हिंसा में 7.3 प्रतिशत का इजाफा हुआ।


Source link

About divyanshuaman123

Check Also

बदल देना चाहिए राजेंद्र नगर टर्मिनल का नाम: कर देना चाहिए कंकड़बाग टर्मिनल, रास्ता बंद होने की वजह से लोगों को घूम कर जाना पड़ता है

बदल देना चाहिए राजेंद्र नगर टर्मिनल का नाम: कर देना चाहिए कंकड़बाग टर्मिनल, रास्ता बंद होने की वजह से लोगों को घूम कर जाना पड़ता है

Hindi News Local Bihar Bihar News; People Facing Problem In Rajendra Nagar Terminal Area Road …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *