Thursday , April 15 2021
Breaking News

ट्रेन से 27 लाख का चांदी का गिलास-प्लेट बरामद, एसएलआर बाेगी में दिल्ली से कराया था बुक

पटना13 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

रपीएफ प्रभारी विनाेद सिंह ने बताया कि नेटवर्क काे खंगाला जा रहा है। बुक कराने वाले व रिसीवर का पता चल गया है।

श्रमजीवी एक्सप्रेस की एसएलआर बाेगी से पटना जंक्शन की आरपीएफ टीम ने 27 लाख का चांदी का गिलास और प्लेट बरामद किया। शनिवार काे जैसे ही लकड़ी के बक्से में बंद 403 गिलास और 100 प्लेट पार्सलघर के पास उतरा, रेल पुलिस ने छापेमारी कर दी। इसे दिल्ली से किसी नागेंद्र यादव ने बुक किया था। इसे सुधीर यादव काे डिलिवरी हाेनी थी।

वह डिलिवरी लेने पहुंचा भी था, लेकिन छापेमारी की भनक लगते ही वह खिसक गया। धनतेरस के लिए इसे दिल्ली से मंगवाया गया था। सुधीर इसे पटना के कई काराेबारियाें काे देता। छापेमारी टीम में आरपीएफ प्रभारी विनाेद सिंह व उनकी टीम शामिल थी।
जीएसटी बचाने खेल: दरअसल यह पूरा खेल जीएसटी बचाने का है। एक्सपर्ट के अनुसार, अगर जीएसटी का भुगतान किया जाता ताे 27 लाख के चांदी के बर्तन पर 3 फीसदी के दर से 81 हजार रुपए देने होते। अब काेराेबारी काे माल छुड़ाने के लिए इस 3 फीसदी के साथ 3 फीसदी जुर्माना देना हाेगा। उसे 1.62 लाख रुपए का भुगतान करना हाेगा।

पटना से दिल्ली तक बड़ा नेटवर्क
ऐसे काराेबारियाें का पटना से दिल्ली तक बड़ा नेटवर्क है। त्याेहार के दौरान इनका गाेरखधंधा बढ़ जाता है। इस खेल में रेलवे के भी कुछ अधिकारी शामिल हैं। सवाल है कि बिना पक्का कागज के लिए ट्रेन में कैसे लाेड कर दिया गया? ठेकेदार द्वारा लीज पर ली गई एसएलआर बाेगी में दिल्ली से पटना तक इसकी चेकिंग क्याें नहीं हुई?

रेल पुलिस के कहना है कि इस बाेगी में क्षमता से अधिक माल बुक हाेकर आता है। इधर, आरपीएफ प्रभारी विनाेद सिंह ने बताया कि नेटवर्क काे खंगाला जा रहा है। बुक कराने वाले व रिसीवर का पता चल गया है।


Source link

About divyanshuaman123

Check Also

पटना में जान से खिलवाड़: न खुद की चिंता न दूसरों की परवाह, नियम तोड़कर बन रहे खतरा, संक्रमण की रफ्तार बढ़ी तो सख्त हुआ प्रशासन

पटना में जान से खिलवाड़: न खुद की चिंता न दूसरों की परवाह, नियम तोड़कर बन रहे खतरा, संक्रमण की रफ्तार बढ़ी तो सख्त हुआ प्रशासन

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप पटना7 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *