Monday , April 19 2021
Breaking News

डीएम आवास से सटे मेडिकल कॉलेज के गर्ल्स हॉस्टल में सिक्योरिटी गार्ड की हत्या, पुलिस को करीबी पर शक

भागलपुर7 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • खुटाहा गांव का रहने वाला था मृतक, गार्ड रूम में पड़ी थी लाश, देर शाम हुआ पोस्टमार्टम
  • हत्या किस हथियार से और किन कारणों के चलते हुई, खुलासा अभी नहीं हो पाया है

डीएम आवास से सटे जवाहर लाल नेहरू चिकित्सा महाविद्यालय के गर्ल्स हॉस्टल (पुराना प्रिंसिपल आवास) में तैनात सिक्योरिटी गार्ड शिवरंजन यादव उर्फ सिंटू (36) की हत्या कर दी गई है। गेट पर बने गार्ड रूम में बिस्तर पर सिंटू की लाश पड़ी मिली। हथियार या गोली मारकर सिंटू की हत्या की गई है। सिर में गहरे जख्म के साथ कनपटी में छेद भी है।

शव चित था इसलिए आशंका है कि मंगलवार रात सोए अवस्था में सिंटू की हत्या हुई है। बुधवार दोपहर एक बजे शिफ्ट बदलने के दौरान सिंटू की हत्या का खुलासा हुआ। मृतक लोदीपुर थाना क्षेत्र के खुटाहा का रहने वाला था और अलर्ट सिक्योरिटी कंपनी से जुड़ा था। सिटी एसपी सुशांत कुमार सरोज, सिटी एएसपी पूरन झा, तिलकामांझी थानेदार महेश कुमार मौके पर पहुंचे।

बाद में मृतक के परिजन भी हॉस्टल पहुंच गए। हत्या के कारण का खुलासा नहीं हो पाया है। परिजनों का कहना है कि गर्ल्स हॉस्टल से ही हत्या का तार जुड़ा है। वहीं पुलिस को शक है कि आपसी विवाद में सिंटू की हत्या हुई है, जिसके बारे में परिजन नहीं बता रहे हैं।

देर शाम मेडिकल कॉलेज में पोस्टमार्टम हुआ। डॉक्टर ने स्पष्ट नहीं किया कि गोली से मौत हुई है या हथियार से। पीएम रिपोर्ट में डॉक्टर मंतव्य देंगे, तब पता चलेगा कि मौत कैसे हुई। सिंटू अपने पीछे पत्नी नीतू देवी, दो बेटी सृष्टि और कोमल को छोड़ गया है।

दोपहर में शिफ्ट चेंज होने के दौरान हत्या का पता चला
सिक्योरिटी कंपनी के कर्मियों ने बताया कि सिंटू लगातार दो शिफ्ट ड्यूटी करता था। रात 9 से सुबह 5 और फिर सुबह 5 से दोपहर 1 बजे तक उसकी ड्यूटी गर्ल्स हॉस्टल में रहती थी। बुधवार दोपहर 1 बजे शिफ्ट बदली के दौरान दूसरा गार्ड शि‌व नंदन मिश्रा आए तो उन्होंने हॉस्टल के मुख्य दरवाजे पर आवाज दी। भीतर से ताला बंद था। तो शिव नंदन ने इंचार्ज को जानकारी दी।

इंचार्ज आए तो स्वीपर को कैंपस में भेजा गया। गार्ड रूम में बिस्तर पर खून से लथपथ सिंटू की लाश पड़ी थी। चार भाइयों में सिंटू सबसे छोटा था और 4 साल से नौकरी कर रहा था। सिटी एसपी सुशांत कुमार सरोज का कहना है कि हत्या के हर एंगल से जांच कर रहे है। कारणों का पता लगाया जा रहा है।

गार्ड रूम में संघर्ष के सबूत नहीं
गार्ड रूम में किसी भी तरह के संघर्ष का सबूत पुलिस को नहीं मिला। पुलिस को शक है कि हत्या में कोई करीबी का हाथ हो सकता है, जिससे सिंटू परिचित था। दूसरा कयास है कि सोए अवस्था में सिंटू की हत्या हुई होगी। मृतक की भाभी अरुणा देवी, सुनीता देवी आदि का कहना है कि सिंटू की किसी से दुश्मनी नहीं थी।

हमारे यहां हॉस्टल में स्टूडेंट नहीं रह रहे हैं
अभी हाॅस्टल में स्टूडेंट नहीं रह रहे हैं, गार्ड की माैत की जांच पुलिस कर रही है। पाेस्टमार्टम के बाद ही कारण क्लीयर हाे सकता है। -डाॅ. अशाेक कुमार भगत, अधीक्षक, जेएलएनएमसीएच

पहले ऑन ड्यूटी गार्ड पर गोलीबारी और अब हत्या, दोनों घटनाओं से सहमे सुरक्षाकर्मी
मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में अलर्ट सिक्योरिटी नामक कंपनी गार्ड उपलब्ध कराती है। जुलाई 2019 में मेडिकल कॉलेज अस्पताल में ऑन ड्यूटी गार्ड पर गोलीबारी और अब गर्ल्स हॉस्टल में तैनात ऑन ड्यूटी गार्ड की बेरहमी से हत्या। दोनों वारदात से मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में ड्यूटी करने वाले सिक्योरिटी गार्ड डरे-सहमे हैं और कंपनी के साथ-साथ विभाग से भी सुरक्षा की मांग कर रहे हैं।

सवा साल पहले मेडिकल कॉलेज अस्पताल में बाइक लगाने को लेकर गार्ड से विवाद में बदमाशों ने कैंपस में ताबड़तोड़ गोलीबारी की थी। गार्ड इंद्रजीत सिंह निवासी (बूढ़ानाथ गली) को गोली मार कर जख्मी कर दिया था। सुरक्षा की मांग को लेकर मेडिकल के छात्र अौर जूनियर डॉक्टरों ने जमकर हंगामा किया था।


Source link

About divyanshuaman123

Check Also

ऑक्सीजन पर पहरे से संकट और गहराया: निजी अस्पतालों को नहीं मिल रहे पर्याप्त सिलेंडर, प्रशासन ने ऐसे अस्पतालों को दी इलाज की अनुमति जहां व्यवस्था ही नहीं

ऑक्सीजन पर पहरे से संकट और गहराया: निजी अस्पतालों को नहीं मिल रहे पर्याप्त सिलेंडर, प्रशासन ने ऐसे अस्पतालों को दी इलाज की अनुमति जहां व्यवस्था ही नहीं

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप पटना3 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *