Monday , April 19 2021
Breaking News

डुमरांव में धान की फसलों को बर्बाद कर रहीं नीलगायें, किसान परेशान

डुमरांव20 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • अनुमंडल क्षेत्र के विभिन्न गांवों में झुंड के झुंड विचरित कर रही नीलगायें

पूरे अनुमंडल के किसान नीलगायों से आजिज आ चुके है। स्थिति यह है कि किसानों के लिए बिना बाड़ की खेती करना मुश्किल हो गयी है। नील गायों के समूह खेतों में धावे बोलकर खड़ी फसलों को चट कर जाते हैं। सबसे अधिक नील गायों का आतंक छतनवार, नुआंव, सोवां, अरियांव, धरौली, मनपा , धगौली, अमथुआ, लाखनडीहरा, नन्दन, कुशलपुर, कोपवा नया भोजपुर, दिया ढकाईच सहित अन्य दर्जनों गांवों में है।

नील गायों के समूह पेट भरने के लिए आबादी के बिलकुल करीब तक आ जा रहे है। किसानों का कहना है कि शुरू में तो ये नीलगाय आवाज लगा कर खदेड़ने पर भाग जाते थे। लेकिन, अब ये मानवीय गतिविधियों की आदत हो गये है और खदेड़ने का ज्यादा असर इन पर नहीं पड़ रहा है। किसानों का कहना है कि नीलगायों के समूह सबसे ज्यादा चोट इस वक्त धान की फसल पर करते हैं।

हर समूह में दस पन्द्रह नील गायें शामिल रहती है और एक साथ खेतों पर इनका धावा होता है और धान की निकल रही बालिया को चरते हुए रौंद कर बर्बाद कर रहे है। जाहिर है कि वन्य जीवों के शिकार पर पाबंदी की वजह से इन नीलगायों को मारा भी नहीं जा सकता। ऐसे में किसान चाह कर भी नील गायों से मुक्ति नहीं पा रहे है। किसान कृष्ण देव सिंह कहते है कि आखिर नीलगायों के आतंक के बीच खेती कैसे की जायें। आज किसानों के सामने सबसे बडा सवाल खड़ा हो गया है।


Source link

About divyanshuaman123

Check Also

ऑक्सीजन पर पहरे से संकट और गहराया: निजी अस्पतालों को नहीं मिल रहे पर्याप्त सिलेंडर, प्रशासन ने ऐसे अस्पतालों को दी इलाज की अनुमति जहां व्यवस्था ही नहीं

ऑक्सीजन पर पहरे से संकट और गहराया: निजी अस्पतालों को नहीं मिल रहे पर्याप्त सिलेंडर, प्रशासन ने ऐसे अस्पतालों को दी इलाज की अनुमति जहां व्यवस्था ही नहीं

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप पटना3 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *