Friday , February 26 2021
Breaking News

धरती डोला था उस साल आए थे, पैर छूकर प्रमाण किए थे, बैलगाड़ी पर आई थी इस घर में, मरते दम तक रहूंगी यहीं

  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Ram Vilas Paswan First Wife Rajkumari Devi Life Story | Story To Know About Rajkumari Devi

पटना25 मिनट पहलेलेखक: शालिनी सिंह

  • कॉपी लिंक

रामविलास पासवान और उनकी पहली पत्नी राजकुमारी देवी। (फाइल फोटो)

  • राजकुमारी 40 साल से खगड़िया के अलौली के सरवनी गांव में इंतजार में अकेली बैठी थी
  • 2015 में जब रामविलास पासवान अपने पिता की बरसी में गांव आएं तो आमना-सामना हुआ था

बिहार की दलित राजनीति के दिग्गज सितारे रामविलास पासवान का जाना बिहार की राजनीति के एक युग के अंत जैसा है। यही अंत है रामविलास पासवान की पहली पत्नी राजकुमारी देवी के इंतजार का। राजकुमारी 40 साल से खगड़िया के अलौली के सरवनी गांव में इंतजार में अकेली बैठी थी। इंतजार था रामविलास पासवान से मिलने की, जिसकी उम्मीद साल दर साल कम होती जा रही थी, लेकिन 2015 में जब रामविलास पासवान अपने पिता की बरसी में गांव आएं तो आमना-सामना हुआ।

कोई बात तो नहीं हुई, लेकिन राजकुमारी देवी ने रामविलास पासवान के पांव छूये। बस यही एक याद है जो आज भी राजकुमारी के पास है। वह इस पल को याद करती हैं और बेजार रोने लगती हैं। रोते-रोते बेहोश होती हैं तो लोग होश में लाते हैं फिर रोती और फिर बेहोश हो जाती हैं। राजकुमारी की शादी महज 13 साल की उम्र में रामविलास पासवान से हुई थी। रामविलास उस समय 14 साल के थे। शादी के बाद कई साल तक दोनों गांव में रहे फिर पटना आये।

1967 में एमएलए बनने के बाद राजकुमारी देवी, रामविलास पासवान के साथ आर ब्लॉक स्थित एमएलए फ्लैट में रहीं। फिर रामविलास पासवान एमपी बन गए। सालों तक सबकुछ ठीक रहा, लेकिन फिर सब बदल गया। उनकी बेटी आशा पासवान बताती हैं कि याद नहीं पापा हमसे कब अलग हुए, लेकिन मैं शायद तब 7 साल की थी।

राजकुमारी देवी की पुरानी तस्वीर।

राजकुमारी देवी की पुरानी तस्वीर।

राजकुमारी ने कभी नहीं की शिकायत
40 साल से राजकुमारी अकेली इंतजार करती रहीं। रामविलास पासवान सत्ता के शीर्ष पर बैठे रहें, लेकिन राजकुमारी ने कभी उनके खिलाफ कुछ नहीं कहा। कई बार मीडिया ने भी उनसे ये सवाल किए, लेकिन फिर भी वह चुप रहीं। ऐसा नहीं है कि उनकी इस चुप्पी के पीछे नाराजगी थी, बल्कि राजकुमारी ने रामविलास की खुशी को अपनी खुशी मान ली थी।

राजनीति ने किया था राजकुमारी को रामविलास से अलग
ये जानते हुए भी अगर रामविलास सत्ता के शीर्ष पर ना होते तो शायद उनके साथ होते, राजकुमारी ने कभी उनके राजनेता बनने पर दुख नहीं जताया था। राजकुमारी कहती है कि किसी सरकारी नौकरी में होते तो इतनी पहचान थोड़े ही बनती। उन्हें देश और विदेशों तक लोग जानते हैं। रामविलास लंबे समय से बीमार थे। यह जानने पर उन्हें चिंता तो होती थी, लेकिन कभी उनके पास जाने की जिद नहीं की। राजकुमारी देवी आज भी अपने पैतृक आवास में अकेली रहती हैं। बीमार होने पर पटना तो आती हैं, लेकिन कभी 2 महीने से ज्यादा बेटी-दामाद के पास नहीं रहतीं। कहती हैं बेटी-दामाद के घर कितने दिन रहूंगी। यहां रहूंगी तो मेरे घर को कौन देखेगा।


Source link

About divyanshuaman123

Check Also

CRPF जवान को पुलिसकर्मी ने घसीटा: सहरसा में वीडियो वायरल; जवान ने बस कहा था- महिलाओं को पकड़ने के लिए महिला पुलिस लेकर आइए

CRPF जवान को पुलिसकर्मी ने घसीटा: सहरसा में वीडियो वायरल; जवान ने बस कहा था- महिलाओं को पकड़ने के लिए महिला पुलिस लेकर आइए

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप सहरसा15 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *