Monday , March 1 2021
Breaking News

बाराचट्टी सीट ने 7 बार महिलाओं को भेजा सदन

गयाएक दिन पहले

  • कॉपी लिंक
  • इमामगंज, शेरघाटी, गुरूआ, वजीरगंज व बेलागंज प्रखंड से नहीं जीती हैं महिला

जिले के बाराचट्टी विधानसभा सीट ने सर्वाधिक सात बार महिलाओं को सदन में भेजा है। जिले में 10 विधानसभा सीट हैं, जिसमें सबसे ज्यादा बार बाराचट्टी ने महिलाओं को क्षेत्र के प्रतिनिधित्व का मौका दिया। इमामगंज, शेरघाटी, गुरूआ, वजीरगंज व बेलागंज ने अभी तक महिला प्रत्याशी को विधानसभा में जीत के साथ नहीं भेजा है। 1969, 1977, 1995, 2000, 2003, 2010 और 2015 में बाराचट्टी सीट पर भगवती देवी और उनकी बेटी का कब्जा रहा है।

अगर विजय के बाद कैबिनेट में शामिल होने और मंत्री पद प्राप्त करने की बात करें, तब गया शहर से 1977 में जनता पार्टी की टिकट से जीती सुशीला देवी का नाम आता है। वे अबतक की एकमात्र महिला प्रतिनिधि रहीं हैं, जिन्हें राज्यमंत्री बनाया गया था। हालांकि महिलाओं को विधानसभा में प्रतिनिधित्व देने की परंपरा की शुरुआत बोधगया ने की। 1957 में अनारक्षित सीट से शांति देवी को कांग्रेस के टिकट पर जीत मिली थी। हालांकि बोधगया से 1995 में निर्दलीय मालती देवी को भी जीत मिली और विधानसभा तक पहुंची।

भगवती सर्वाधिक बार जीती
बाराचट्टी विधानसभा सीट से सर्वाधिक बार भगवती देवी जीती हैं। उसने राम मनोहर लोहिया, जयप्रकाश नारायण और कर्पूरी ठाकुर से भी जुड़ी थी। हालांकि 1969 में बाराचट्टी से जीत का स्वाद चखने से पहले सोशलिस्ट पार्टी के टिकट से 1967 में इमामगंज से चुनाव लड़ी थी, जिसमें हार देखनी पड़ी। 1969 में सोशलिस्ट पार्टी की टिकट से जीत के बाद 1977 में जनता पाटी्र, 1995 जनता दल और 2000 आरजेडी टिकट से विधानसभा तक पहुंची थी। 2003 में उनकी मृत्यु के बाद उस परंपरा को उनकी बेटी समता देवी व ज्यांति मांझी ने जारी रखा। 2003 और 2015 में राजद के टिकट पर समता देवी और 2010 में जदयू के टिकट पर ज्यांति मांझी ने चुनाव जीता।

अतरी से कुंती देवी
अतरी विधानसभा सीट से पूर्व विधायक राजेंद्र यादव की परंपरा को उनकी पत्नी कुंती देवी ने जारी रखा। 2005 और 2015 में राजद के टिकट पर उसने विजय प्राप्त कर विधानसभा पहुंची। कोंच-टिकारी से पूर्व विधायक शत्रुघ्न सिंह की पत्नी और स्वतंत्रता सेनानी राजकुमारी देवी ने 1980 में कांग्रेस के टिकट पर जीत प्राप्त की।


Source link

About divyanshuaman123

Check Also

स्वच्छता की पहल: मटके में गीले कचरे से घर में ही तैयार कर सकते हैं जैविक खाद

स्वच्छता की पहल: मटके में गीले कचरे से घर में ही तैयार कर सकते हैं जैविक खाद

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप मुजफ्फरपुरएक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *