Sunday , February 28 2021
Breaking News

बिना मास्क प्रत्याशी और नेता कर रहे जनसंपर्क कोविड प्रोटोकॉल की खुलेआम उड़ा रहे धज्जियां

डुमरांव13 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • चुनावी प्रचार-प्रसार, रैली व जनसंपर्क में कोविड-19 के नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं प्रत्याशी
  • मतदाताओं को रिझाने के चक्कर में खुद के साथ दूसरों के स्वास्थ्य से भी कर रहे हैं खिलवाड़

निर्वाचन आयोग ने कोरोनाकाल में चुनाव सम्पन्न कराने का निर्णय लिया है। लेकिन, इसके लिए निर्वाचन आयोग ने सभी स्तरों पर कोविड-19 के सामान्य नियमों का पालन कराने की जिम्मेदारी जिला प्रशासन व कोषांगों को दी है। इसके लिए आयोग ने जिला प्रशासन व वोटरों के साथ-साथ राजनीतिक दलों और प्रत्याशियों के लिए भी गाइड लाइन जारी किया है।

ऐसे में प्रशासन के द्वारा मतदाताओं को जागरूक करने व कोविड नियमों की जानकारी के लिए सघन अभियान चलाए जा रहे हैं। लेकिन, प्रत्याशी व उनके कार्यकर्ता प्रशासन के नाक के नीचे कोविड-19 के नियमों उल्लंघन करते देखे जा रहे हैं। गत दिनों नामांकन की प्रक्रिया पूरी हुई है। जिसको लेकर भी गाइड लाइन्स दिए गए थे।

आयोग ने नामांकन में कैंडिडेट के साथ सिर्फ दो लोगों को जाने व नॉमिनेशन के लिए आने वाली गाड़ियों की संख्या भी 2 कर दी थी। लेकिन, नामांकन की खुशी में प्रत्याशियों को कोरोना संक्रमण का भी भय नहीं रहा। दूसरी ओर, बिना सोशल डिस्टेंसिंग के प्रचार-प्रसार व बैठक करना प्रत्याशियों को कार्यकर्ताओं को महंगा पड़
सकता है।
नियमतः इस तरह करना है कोरोना काल में चुनाव प्रचार

डुमरांव एसडीओ हरेंद्र राम ने बताया कि निर्वाचन आयोग द्वारा कोरोना काल में चुनाव प्रचार के लिए भी कई नियम बनाए गए हैं। कैंडिडेट अधिकतम पांच व्यक्तियों (सुरक्षाकर्मियों को छोड़कर) के साथ घर-घर प्रचार कर सकते हैं। रोड शो के दौरान वाहनों का काफिला 5-5 वाहनों में बंटा होगा। कोविड-19 गाइडलाइंस के आधार पर रैलियों की मंजूरी दी जा सकती है।

इसके लिए जिला निर्वाचन अधिकारियों को कई निर्देश दिए गए हैं। जिला निर्वाचन अधिकारी जनसभाओं के लिए जगह तय करेंगे, जिनमें एंट्री और एक्जिट पॉइंट बने होंगे। जनसभा स्थलों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराना होगा। कोविड-19 गाइडलाइंस का पालन कराने के लिए नोडल डिस्ट्रिक्ट हेल्थ ऑफिसर को प्रक्रिया में शामिल किया जाएगा।
बिना अनुमति के अधिक लोग नहीं जुट सकते
आयोग के नियमों के अनुसार जिला निर्वाचन अधिकारी व एसपी यह सुनिश्चित करेंगे कि स्टेट डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी की तरफ से स्वीकृति से अधिक लोग एकत्रित ना हो। दूसरी ओर, चुनाव प्रचार, रैली, वोटिंग, काउंटिंग जैसे चुनाव से जुड़े सारे काम में लोगों को मास्क लगाना होगा, थर्मल चेकिंग होगी। साथ ही, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। प्रशासनिक बैठकों में भी कोरोना को लेकर हेल्थ डिपार्टमेंट की गाइडलाइंस का पालन करना होगा। हर सीट पर एक हेल्थ नोडल अफसर होगा जो देखेगा कि सारे चुनावी कार्यों में और राजनीतिक कार्यक्रमों में कोरोना गाइडलाइंस का पालन हो रहा है या नहीं।
नामांकन के पूर्व ही सभी राष्ट्रीय व राज्यीय दलों को आयोग के कोविड-19 के गाइडलाइंस से अवगत कराया गया था। ताकि, संक्रमण के खतरे को कम किया जा सके। इसके बाद भी यदि प्रत्याशी या दल नियमों का उल्लंघन करती देखे गए, तो उनपर आपदा 2005 नियमों के धारा 51-60 व आईपीसी 188 के तहत उल्लंघन के तहत कार्रवाई की जाएगी। -हरेंद्र राम, डुमरांव एसडीओ


Source link

About divyanshuaman123

Check Also

टीकाकरण के लिए सुविधा: पहले दिन बुजुर्गाें को कोरोना के टीकाकरण के लिए तीन अस्पताल तय

टीकाकरण के लिए सुविधा: पहले दिन बुजुर्गाें को कोरोना के टीकाकरण के लिए तीन अस्पताल तय

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप भागलपुरएक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *