Sunday , March 7 2021
Breaking News

बिहार में दलितों पर हमले में 6.7 फीसदी की कमी, दलित महिलाओं से रेप के मामले में 16वें स्थान पर, केरल नंबर वन

पटना24 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • बिहार में 160 दलितों की हत्या हुई, वहीं 107 की हत्या की कोशिश की गई

(शशि सागर) नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो द्वारा जारी वर्ष 2019 के आंकड़ों के मुताबिक, बिहार में दलितों पर हमले के मामले में 6.72 फीसदी की कमी आई है। वर्ष 2018 में 7016 और 2019 में 6544 मामले सामने आए। देश के स्तर पर 2019 में दलितों के खिलाफ 45935 घटनाएं हुईं। साल 2018 से तुलना करें तो इसमें 7.3 फीसदी का इजाफा हुआ।

साल 2019 में देशभर में 923 दलितों की हत्या हुई। बिहार में 160 दलितों की हत्या हुई, वहीं 107 की हत्या की कोशिश की गई। उत्तर प्रदेश में 219 दलितों की हत्या हुई और 110 की हत्या की कोशिश। साल 2019 में दलितों पर हमले के आरोप में 7483 लोग गिरफ्तार हुए जिनमें से 74 लोग दोषी करार दिए गए हैं।

वहीं 21 लोगों को छोड़ दिया गया और 649 लोगों को आरोपों से बरी कर दिया गया। दलित महिलाओं से रेप की घटनाएं साल 2019 में सबसे अधिक केरल में दर्ज हुईं। 140 घटनाओं के साथ केरल का क्राइम रेट 4.6 फीसदी है। बिहार में 72 दलित महिलाओं से रेप की घटनाएं हुईं और क्राइम रेट 0.4 फीसदी है। देश भर में क्राइम रेट के हिसाब से बिहार 16वें नंबर पर है। उत्तर प्रदेश में 545 दलित महिलाओं से रेप की घटना हुई। हालांकि वहां का क्राइम रेट 1.3 फीसदी है।

दलित प्रताड़ना में 7वें स्थान पर पटना

19 महानगरों की सूची में दलितों पर हमले के मामले में पटना सातवें पायदान पर है। साल 2019 में पटना में दलितों पर हमले के 109 मामले सामने आए जिसका क्राइम रेट 6.5 फीसदी है। वहीं जयपुर में 343 घटनाएं हुईं और उसका क्राइम रेट 20.5 फीसदी है। दूसरे स्थान पर रहे लखनऊ में 234 घटनाएं हुईं और क्राइम रेट 14.0 फीसदी है। पटना में पांच दलिताें की हत्या हुई। सबसे अधिक आठ हत्याएं बेंगलुरु में हुईं।

उत्तरप्रदेश में आदिवासियों पर सबसे अधिक हमले, 2019 में 721 मामले
आदिवासियों पर हमले की घटनाएं सबसे अधिक उत्तरप्रदेश में हुईं। 2019 में उत्तरप्रदेश में 721 मामले सामने आए और क्राइम रेट 63.6 फीसदी रहा। दूसरे स्थान पर केरल है, जहां 140 मामले आए और क्राइम रेट 28.9 फीसदी रहा। सातवें स्थान पर बिहार है, जहां साल भर में 97 घटनाएं हुईं और क्राइम रेट 7.3 फीसदी है। साल 2019 में बिहार में चार आदिवासियों की हत्या का मामला सामने आया। सबसे अधिक मध्यप्रदेश में 36 और उत्तरप्रदेश में 34 हत्याएं हुईं।


Source link

About divyanshuaman123

Check Also

महिला दिवस पर महिलाओं की जांच: बिहार के सरकारी अस्पतालों में करा सकती हैं कैंसर की स्क्रीनिंग, विशेष तैयारी के साथ लगाए गए विशेषज्ञ

महिला दिवस पर महिलाओं की जांच: बिहार के सरकारी अस्पतालों में करा सकती हैं कैंसर की स्क्रीनिंग, विशेष तैयारी के साथ लगाए गए विशेषज्ञ

Hindi News Local Bihar Patna Special Provision For Womens In The Hospitals Of Bihar On …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *