Sunday , April 18 2021
Breaking News

राजद में 38 दागी नई बात नहीं पर खास यह कि छह प्रत्याशियों का सियासी ताल्लुक नहीं, जमीन से जुड़े हैं, इनकी छवि भी बेदाग

  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • 38 Tainted In RJD Is Not New But Especially That The Political Candidates Of Six Candidates Are Not Connected, They Are Connected To The Land, Their Image Is Also Impeccable

पटना17 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • तीनों चरणों में 38 दागी प्रत्याशी उतारे, इधर कुछ अलग… आम आदमी से जुड़े जमीनी नेताओं को उम्मीदवार चुना

हर सिक्के के दाे पहलू हाेते हैं। इस चुनाव में राजद के साथ यह बात फिट बैठ रही है। इस विधानसभा चुनाव में पार्टी ने तीन चरणाें में 38 दागी (आपराधिक रिकाॅर्ड वाले) प्रत्याशी उतारे हैं ताे दूसरी तरफ, चुनावी मैदान में छह ऐसे उम्मीदवारों को भी खड़ा किया है, जिनका किसी सियासी परिवार ताल्लुक नहीं है और उन्होंने अपने काम के दम पर अलग पहचान बनाई है।

इन छह प्रत्याशियाें काे चुनाव मैदान में उतारना, राजद की युवाओं और आम आदमी से जुड़े नेताओं काे पार्टी से जाेड़ने की रणनीति के तहत उठाया गया कदम है। राजद नेता तेजस्वी यादव के चुनावी वायदों के साथ उनके टिकट वितरण में भी यह दिख रहा है।

रितु जायसवाल बढ़िया काम करनेवाली मुखिया की पहचान

डाॅ. रामचंद्र पूर्वे की लड़ने वाली सीतामढ़ी की परिहार विस सीट से मुखिया रितु जायसवाल को टिकट मिला है। पब्लिक स्कूल की नौकरी और आईएएस पति के साथ आरामदायक जीवन छोड़कर रितु वर्ष 2016 से अपनी पंचायत सिंहवाहिनी गांव में काम कर रहीं है। उन्हें पंचायत में किए काम के लिये चैंपियन्स ऑफ चेंज अवाॅर्ड से सम्मानित किया जा चुका है।

रणविजय साहू साहू समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष

समस्तीपुर की मोरवा सीट से रणविजय साहू को प्रत्याशी बनाया गया है। ये साहू समाज (वैश्य) के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं और राजद व्यावसायिक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष भी हैं। भाजपा के आधार मतों वाले वैश्य समाज से आने वाले युवा नेता रणविजय साहू को प्रत्याशी बनाकर राजद ने बड़ा दांव खेला है। रणविजय पार्टी में भी साइलेंट तरीके से काम करते रहे हैं।

इसराइल मंसूरी धुनिया समाज के प्रतिनिधि

मुजफ्फरपुर की कांटी विधानसभा सीट से इसराइल मंसूरी को टिकट मिला है। किसी मंसूरी समाज के नेता को टिकट मिलना बड़ी बात है। सामाजिक न्याय के अंतिम कतार पर इस समाज को माना जाता है। मुसलमानों की आबादी में मंसूरी समाज की आबादी ठीक-ठाक है। सामाजिक, आर्थिक और शैक्षिक रूप से यह बिरादरी मुस्लिमों में काफी वंचित है।
सतीश दास एलएलबी हैं, मांझी के दामाद के खिलाफ मैदान में

मखदुमपुर सीट से सतीश दास चुनावी मैदान में उतरे हैं। ये रविदास समाज से आते हैं। जीतन राम मांझी के दामाद देवेंद्र कुमार मांझी से इनका मुकाबला है। सतीश दास मगध विश्वविद्यालय से स्नातक व एलएलबी डिग्रीधारी है। वे छात्र संगठन से जुड़े रहे हैं। मखदुमपुर सीट पर आरजेडी के जनाधार को वे अपने पक्ष में मोड़ने में लगे हुए हैं।

डाॅ. गौतम कृष्णा बीडीओ की नौकरी छोड़कर चुनाव लड़ रहे

सहरसा के नवहट्टा प्रखंड में बीडीओ की नौकरी छोड़ राजद में शामिल हुए डॉ. गौतम कृष्ण को महिषी विधानसभा सीट से चुनावी मैदान में उतारा गया है। गौतम कृष्ण का मानना है कि भय, भूख, भ्रष्टाचार से मुकाबला करने के लिए वे सीधे जनता की अदालत में आए हैं। क्षेत्र के विकास की नई इबारत लिखने के लिए ही नौकरी छोड़कर राजनीति में आए हैं।
ऋषिदेव मांझी नियोजित शिक्षक की नौकरी छोड़ी

महादलित परिवार से आने वाले युवा अविनाश मंगलम उर्फ ऋषिदेव मांझी रानीगंज से उम्मीदवार हैं। वे बेहद साधारण परिवार से आते हैं। उनकी छवि साफ-सुथरी है और संभवत: टिकट मिलने का यही मुख्य कारण भी है। वे नियाेजित शिक्षक की नाैकरी छाेड़कर चुनाव मैदान में हैं। वैसे उनके पिता भी रानीगंज सीट से एक बार चुनाव लड़ चुके हैं।


Source link

About divyanshuaman123

Check Also

बिहार: बेकाबू कोरोना को काबू करने के लिए सरकार ने तैयार किया ब्लूप्रिंट, सीएम नीतीश कुमार थोड़ी देर में करेंगे एलान

बिहार: बेकाबू कोरोना को काबू करने के लिए सरकार ने तैयार किया ब्लूप्रिंट, सीएम नीतीश कुमार थोड़ी देर में करेंगे एलान

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पटना Published by: प्रशांत कुमार Updated Sun, 18 Apr 2021 10:54 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *