Thursday , April 15 2021
Breaking News

सुशील मोदी ने कहा है – अन्य दलों को नहीं करने देंगे पीएम के फोटो का इस्तेमाल, पर बिना पीएम प्रोटोकॉल के तस्वीर का प्रयोग रोक पाना संभव नहीं

  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Sushil Modi Election 2020 Update; Will Not Allow Parties To Use Pm Narendra Modi Photos During Bihar Poll Campaigns

पटना21 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

दैनिक भास्कर आपको सुशील मोदी के बयान से जुड़े पेंच समझा रहा है और एक्सपर्ट की राय से रु-ब-रु भी करा रहा है।

  • चुनाव में प्रधानमंत्री के फोटो का इस्तेमाल करने पर अड़ी लोजपा, भाजपा को दिक्कत, लेकिन पीएमओ प्रोटोकॉल से ही रोक संभव
  • भास्कर आपको बता रहा है कि कैसे फोटो के इस्तेमाल पर रोक लग सकती है और रोक संभव नहीं है

बिहार भाजपा की ओर से सुशील कुमार मोदी ने चिराग पासवान को चेतावनी दी कि चार पार्टियों को छोड़ कोई प्रधानमंत्री के फोटो का इस्तेमाल करता है तो वह शिकायत लेकर चुनाव आयोग भी जा सकते हैं। लेकिन सुशील कुमार मोदी के इस बयान का बहुत असर पड़ने की उम्मीद नहीं है। सच यह है कि बिना पीएम प्रोटोकॉल के फोटो का इस्तेमाल रोक पाना संभव नहीं, क्योंकि लोजपा केन्द्र में गठबंधन में शामिल पार्टी है। दैनिक भास्कर आपको इससे जुड़े पेंच समझा रहा है और एक्सपर्ट की राय से रु-ब-रु भी करा रहा है।

सबसे पहले लोजपा की रणनीति समझिए

प्रधानमंत्री के फोटो का इस्तेमाल करके वोट लेंगे और नीतीश कुमार की आलोचना करेंगे, यह लोजपा की रणनीति है। लोजपा बिहार में अपने 143 उम्मीदवार उतार रही है। उसे भाजपा और जदयू के बीच सीटों को लेकर हुए तालमेल या बंटवारे से कोई लेना देना नहीं है, लेकिन लोजपा ने यह कहकर जदयू को मुश्किल में डाल दिया है कि चुनाव के बाद उसके विधायक भाजपा को समर्थन देंगे। लोजपा ज्यादातर उम्मीदवार वैसी जगहों पर ही उतारेगी जहां जदयू के उम्मीदवार होंगे। अब लोजपा ने यह भी कहा कि नरेन्द्र मोदी देश के प्रधानमंत्री हैं और उनके विजन से हम बहुत प्रभावित हैं. इसलिए चुनाव में उनके फोटो का इस्तेमाल करेंगे। इस मामले ने बिहार की सियासत को गर्म कर दिया।

डैमेज कंट्रोल में लग गई भाजपा

भाजपा के कई नेता देवेन्द्र फड़नवीस, भूपेन्द्र यादव,, सुशील कुमार मोदी और संजय जायसवाल नीतीश कुमार को मनाने पहुंचे। मिलने के बाद संजय कुमार जायसवाल ने प्रेस से कहा कि नीतीश कुमार बिहार में एनडीए के नेता हैं और जो उन्हें नहीं मानता है वह एनडीए में नहीं है। उनका इशारा लोजपा और चिराग पासवान की तरफ था। आनन-फानन में सुशील कुमार मोदी का बयान भी आया। उन्होंने लोजपा का नाम लिए बिना चेतावनी दी कि चार दलों के अलावा कोई भी दल नरेन्द्र मोदी के फोटो का इस्तेमाल चुनाव में करेगा तो वे चुनाव आयोग भी जा सकते हैं। लेकिन सवाल है कि सुशील मोदी के यह कहने से क्या होगा?

चुनाव आयोग क्या कर सकता है

भास्कर ने बिहार चुनाव आयोग के एक अफसर से बात की। उन्होंने कहा कि यह मामला चुनाव आयोग के सामने आएगा तो आयोग के वरिष्ठ अफसर इस पर फैसला लेंगे। अभी से कुछ भी नहीं कहा जा सकता है। भाजपा अगर यह कहेगी कि नरेन्द्र मोदी के फोटो का इस्तेमाल लोजपा नहीं कर सकती है तो उसका कारण भी तो बताना ही होगा।

हाईकोर्ट के दो वकीलों ने भी कहा – कैसे रोकेंगे?

भास्कर ने पटना हाईकोर्ट के दो सीनियर वकील सर्वदेव सिंह और मणिभूषण प्रसाद सेंगर से बात की। सर्वदेव सिंह कहते हैं कि लोजपा और भाजपा का गठबंधन टूटा कहां है? लोजपा गठबंधन में शामिल है केन्द्र में, इसलिए गठबंधन के मुखिया नरेन्द्र मोदी के फोटो का इस्तेमाल कर सकती है और उनके द्वारा किए गए कार्यों को भी गिना सकती है। वे कहते हैं कि भाजपा को कोई दिककत है तो वह गठबंधन तोड़ सकती है। फिर उसे रामविलास पासवान को भी मंत्री पद से हटाना होगा। परमिशन तो तब जरूरी होता जब नरेन्द्र मोदी गठबंधन से बाहर के नेता होते। खुश करने के लिए कोई कुछ बयान दे सकता है।

गठबंधन तोड़े बिन भी रूक सकता है फोटो का इस्तेमाल

सीनियर वकील मणिभूषण सेंगर कहते हैं कि भाजपा और लोजपा का गठबंधन टूटा नहीं है। इसलिए प्रधानमंत्री के फोटो का इस्तेमाल रोक नहीं सकते। वे एक बात और कहते हैं, वह यह कि प्रधानमंत्री प्रोटोकॉल के तहत फोटो का इस्तेमाल करने पर रोक लग सकती है। अगर ऐसा हुआ तो चिराग पासवान, प्रधानमंत्री के फोटो का इस्तेमाल चुनाव में नहीं कर पाएंगे।

बिना अनुमति के किसी के फोटो का इस्तेमाल सही नहीं

वरिष्ठ पत्रकार सुरेन्द्र किशोर कहते हैं कि यह कॉमन सेंस की बात है कि कोई किसी व्यक्ति के फोटो का इस्तेमाल बिना उसकी अनुमति के कैसे कर सकता है। किसी की इच्छा के उलट उसके फोटो का इस्तेमाल करते हैं तो यह सामान्य रूप से कानूनन गलत ही होगा।


Source link

About divyanshuaman123

Check Also

प्रो. अरूण कुमार का बनारस में होगा दाह संस्कार: पूर्व सभापति के पार्थिव शरीर को विधान परिषद् नहीं ले जाया जाएगा, 41 सालों तक रहे थे MLC

प्रो. अरूण कुमार का बनारस में होगा दाह संस्कार: पूर्व सभापति के पार्थिव शरीर को विधान परिषद् नहीं ले जाया जाएगा, 41 सालों तक रहे थे MLC

Hindi News Local Bihar Former Legislative Council Member Arun Kumar Passes Away In Patna; Last …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *