Friday , February 26 2021
Breaking News

43 साल पहले यूएन में पहली बार हिंदी में भाषण; दुनिया का पहला सैटेलाइट स्पूतनिक अंतरिक्ष में गया; कई देशों के लिए बदला था कैलेंडर

  • Hindi News
  • National
  • Today History For October 4th What Happened Today | Atal Bihari Vajpayee Addressed UN In Hindi | Russian Satellite Sputnik 1 Launched In Space | Who Addressed UN Assembly In Hindi First

3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जितने बेहतरीन राजनेता थे, उतने ही अच्छे कवि और वक्ता। उन्होंने कई ऐसे काम किए कि भारत को दुनिया में एक अलग पहचान मिली। प्रधानमंत्री के तौर पर पोखरन परमाणु परीक्षण ऐसा ही एक कदम था। वैसे, कम ही लोगों को पता है कि 1977 में उन्होंने 4 अक्टूबर को यूएन की महासभा में पहली बार हिंदी में भाषण देकर नया इतिहास रचा था।

उस समय अटल जी मोरारजी देसाई के नेतृत्व वाली जनता पार्टी में विदेश मंत्री थे और उन्हें ही महासभा को संबोधित करने का मौका मिला था। उन्होंने इस मौके का इस्तेमाल हिंदी के प्रचार-प्रसार के लिए किया। पहली बार भारत की राजभाषा यूएन के मंच से सुनाई दी। करीब तीन मिनट का भाषण खत्म होने के बाद यूएन में आए सभी देश के प्रतिनिधियों ने खड़े होकर वाजपेयी का तालियों से स्वागत किया।

यूएसएसआर ने लॉन्च किया स्पूतनिक 1

स्पूतनिक-1 जिसे सोवियत संघ ने अंतरिक्ष में भेजा था। यह दुनिया का पहला सैटेलाइट है जिसे सफलतापूर्वक पृथ्वी की कक्षा में स्थापित किया गया। इसके बाद ही रूस और अमेरिका में अंतरिक्ष में उपलब्धियां हासिल करने के लिए होड़ शुरू हुई थी।

स्पूतनिक-1 जिसे सोवियत संघ ने अंतरिक्ष में भेजा था। यह दुनिया का पहला सैटेलाइट है जिसे सफलतापूर्वक पृथ्वी की कक्षा में स्थापित किया गया। इसके बाद ही रूस और अमेरिका में अंतरिक्ष में उपलब्धियां हासिल करने के लिए होड़ शुरू हुई थी।

बात 63 साल पुरानी है। सोवियत संघ ने दुनिया का पहला कृत्रिम उपग्रह अंतरिक्ष में स्थापित किया और इसका नाम स्पूतनिक-1 रखा। रूसी भाषा में यात्री को स्पूतनिक कहा जाता है। मानव इतिहास के पहले 83.5 किलोग्राम वजनी सैटेलाइट ने 92 दिन में 1400 बार पृथ्वी का चक्कर लगाया।

पहली बार अंतरिक्ष से पृथ्वी पर रेडियाे संदेश भेजा। भले ही सोवियत संघ नहीं बचा है और कई देश अलग होकर आजाद हो चुके हैं, रूस आज भी स्पूतनिक को अब तक की सबसे बड़ी उपलब्धि मानता है। इसी वजह से कोविड-19 का वैक्सीन डेवलप किया तो उसका नाम रखा स्पूतनिक-5 और इसे बिना फेज-3 ट्रायल्स के रूसी जनता के लिए उपलब्ध भी कर दिया।

1582: इटली, पोलैंड, पुर्तगाल ने अपनाया ग्रेगोरियन कैलेंडर

इटली, पोलैंड, पुर्तगाल और स्पेन ने पोप ग्रेगरी के आदेश पर ग्रेगोरियन कैलेंडर अपनाया था। इसे इक्विनॉक्स और सॉलस्टाइसेस जैसी घटनाओं को एडजस्ट करने के लिए ही बनाया था। यह भी ध्यान रखा कि नॉदर्न हेमिस्फीयर के स्प्रिंग इक्विनॉक्स के आसपास ही ईस्टर को सेलिब्रेट किया जा सके। कई दिन छोड़ दिए थे। 4 अक्टूबर के बाद एकदम से 15 अक्टूबर आ गया था। आज ज्यादातर देशों में ग्रेगोरियन कैलेंडर ही मान्य है।

आज की तारीख को इन घटनाओं के लिए भी जाना जाता हैः

  • 1302ः बैजेंटाइन साम्राज्य तथा वेनिस गणराज्य के बीच शांति समझौता हुआ।
  • 1824ः मैक्सिको रिपब्लिक बना।
  • 1830ः नीदरलैंड से अलग होकर बेल्जियम नया देश बना।
  • 1943ः अमेरिका ने सोलोमन द्वीप पर कब्जा किया।
  • 1963ः क्यूबा और हैती में चक्रवाती तूफान फ्लोरा से छह हजार लोगों की मौत।
  • 2006ः जूलियन असांजे ने खुफिया वेबसाइट विकिलीक्स की स्थापना की।
  • 2011ः अमेरिका ने इस्लामिक स्टेट (आईएस) प्रमुख अबू बकर अल बगदादी को वैश्विक आतंकवादी के रूप में चिह्नित किया और साथ ही उस पर एक करोड़ डाॅलर का ईनाम भी रखा।
  • 2012ः फाॅर्मूला वन के बादशाह माइकल शूमाकर ने संन्यास लिया।


Source link

About divyanshuaman123

Check Also

बंगाल में CM का अनोखा विरोध: गले में महंगाई का पोस्टर लगाकर ई-स्कूटी से निकलीं ममता बनर्जी; पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर केंद्र सरकार पर हमला

बंगाल में CM का अनोखा विरोध: गले में महंगाई का पोस्टर लगाकर ई-स्कूटी से निकलीं ममता बनर्जी; पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर केंद्र सरकार पर हमला

Hindi News National Mamata Banerjee Update | West Bengal CM Mamata Banerjee Unique Protest Against …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *