Monday , April 19 2021
Breaking News

5 साल में बोगो सिंह की संपत्ति में पौने दो करोड़ का इजाफा लेकिन 10 लाख के कर्जदार भी

बेगूसराय9 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

मटिहानी विधायक नरेन्द्र कुमार सिंह उर्फ बोगों सिंह 15 साल तक विधायक रहने के बाद भी 10 लाख रुपए के कर्जदार हैं। 5 साल में भले ही इनकी संपत्ति में 1 करोड़ 89 लाख 66 हजार 222 रुपए का इजाफा हुई है, लेकिन 2015 में 23 लाख 78 हजार 560 के कर्ज में 13 लाख रुपए ही अदा कर पाए हैं। विधायक के पास एक करोड़ 28 लाख 42 हजार 30 रुपए की चल संपत्ति है। जबकि छह करोड़ 23 लाख 27 हजार की अचल संपत्ति भी है। इस तरह उनके पास वर्तमान में सात करोड़ 51 लाख 64 हजार 30 रुपए की चल और अचल संपत्ति है। विधायक के पास पिछले विधान सभा में 23 लाख 75 हजार 775 रुपए की एक फॉरच्यूनर और एक 14 लाख एक हजार 474 रुपए की स्कॉर्पियों गाड़ी थी। जबकि इस बार के विधानसभा चुनाव में उनके पास एक स्कॉर्पियो और एक इनोवा गाड़ी है। है। इसके अलावे बोगो सिंह के सोना में कोई इजाफा नहीं हुआ है। 2015 की तरह ही 2020 में भी 300 ग्राम सोना है। इसके अलावे एनपी बोर का एक पिस्टल है। विधायक के पास नकद में मात्र दो लाख रुपए है। इसके अलावे विभिन्न बैंकों में तीस लाख 89 हजार 440 रुपए है। उनके एसबीआई बीआरसी में 1,39,803, एसबीआई बीबी मंडल पटना में 26,51,444, इलाहाबाद बैंक केशावे 2,90,372, विजया बैंक बेगूसराय 7,821 जमा है। इसके अलावे कंपनियों/पारस्पिरिक निधियों और अन्य में बंध पत्रों डिबेंचरों/शेयरों और यूनिटों में विनिधान के ब्यौरे और रकम आईओसी एल शेयर 2,92,000, रिलायंस म्यूचल फंड में 50,000 जमा है। जबकि एलआईसी में 15 लाख 60 हजार 680, बजाज एलांयस में 9,70,000, फ्यूचर जेनरली 8,90,000 और पीएनबी मेटलाइफ में 7,40,000 का इंश्योरेंस है। पिछले विधानसभा चुनाव में विधायक के पास दो करोड़ 81 लाख 39 हजार 667 रुपए खेती की जमीन थी। एक करोड़ 71 लाख 25 हजार नॉन एग्रीकल्चर जमीन था। 15 लाख का एक मकान था। कुल चार करोड़ 68 लाख 34 हजार 667 रुपए की अचल संपत्ति था। चल 93 लाख 63 हजार 141 था। जबकि इस बार के विधानसभा चुनाव में बाजार मूल्य छह करोड़ 43 लाख 27 हजार रुपए की अचल संपत्ति है।


Source link

About divyanshuaman123

Check Also

ऑक्सीजन पर पहरे से संकट और गहराया: निजी अस्पतालों को नहीं मिल रहे पर्याप्त सिलेंडर, प्रशासन ने ऐसे अस्पतालों को दी इलाज की अनुमति जहां व्यवस्था ही नहीं

ऑक्सीजन पर पहरे से संकट और गहराया: निजी अस्पतालों को नहीं मिल रहे पर्याप्त सिलेंडर, प्रशासन ने ऐसे अस्पतालों को दी इलाज की अनुमति जहां व्यवस्था ही नहीं

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप पटना3 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *